अपनी प्रतिक्रिया कमेंट, लाइक या डिसलाइक के रूप में देने की कृपा करें

Wednesday, July 26, 2017

ये शाम मस्तानी मदहोश किये जाये - गाना


तेरी दुनिया से होके मजबूर चला - गाना


छलकायें जाम आईये आपकी आँखों के नाम - गाना


चौदहवीं का चाँद हो या आफताब हो - गाना


ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना - गाना


Saturday, July 22, 2017

रोटी से इन्कलाब तक - कविता


मिथ्याबोध - कविता


बंजारे - कविता


देश निकाला - कविता


दर्द सजीले - कविता


कोमल बेल या मोढ़ा - कविता


केवल संज्ञान है - कविता


आदमी सड़क और आसमान - कविता


Thursday, July 20, 2017

अब क्या मिसाल दूँ में तुम्हारे शबाब की - गाना


सुख के सब साथी दुःख में न कोई - भजन


रिमझिम के गीत सावन गाये - गाना


हम तुम - कविता


शब्दों का सब खेल है - कविता


बाबुल बिटको - कविता


परछाईं - कविता


दलदल - कविता


चाँद अकेला - कविता